The pandemic has taught us a great lesson in uncertainty of life and the forces of nature that are beyond us. It challenged the prevailing mindset of control and rigidity in the world and left many of us, over and over again, more anxious and stressed. Through this workshop series, we invite you to a world of play which embodies practices and tools to help release fixed points of view and experience flow in your personal lives and at a systemic level in the present world. With increasing polarising, there is also a need to find fluidity through the different boxes and labels we put ourselves in.

महामारी ने हमें जीवन की अनिश्चितता और प्रकृति की शक्तियों के बारे में एक बड़ा सबक सिखाया है। इसने दुनिया में नियंत्रण और कठोरता की प्रचलित मानसिकता को चुनौती दी और हम में से कई लोगों को बार-बार, अधिक चिंतित और तनावग्रस्त छोड़ दिया। इस कार्यशाला श्रृंखला के माध्यम से, हम आपको खेल की दुनिया में आमंत्रित करते हैं, जो आपके व्यक्तिगत जीवन में और वर्तमान दुनिया में एक व्यवस्थित स्तर पर बने निश्चित दृष्टिकोण को छोड़के, प्रवाह अनुभव करने में मदद करेगा। विभिन्न बक्सों और लेबल के माध्यम से अक्सर हम खुद को उनके अंदर फसा लेते हैं और आज के बढ़ते ध्रुवीकरण में तरलता खोजने की भी आवश्यक है।

All sessions will happen from 5.30pm-7.45pm IST with a 15 mins break in between. There will be 10 sessions in total, starting with 3 on the opening weekend, 4 weekly sessions and 3 on the closing weekend.

Session dates are:

Friday to Sunday 3rd Sept, 2021 to 5th Sept,

Saturday 11th Sept,

Saturday 18th Sept,

Saturday 25th Sept,

Saturday 2nd Oct, and

Friday to Sunday 8th Oct to 10th Oct.

सभी सत्र शाम 5.30 से शाम 7.45 बजे तक होंगे और बीच में 15 मिनट का ब्रेक होगा। कुल 10 सत्र होंगे, जिसमें ३ शुरुआती सप्ताहांत पर और ३ समापन सप्ताहांत पर होंगे। सत्र तिथियां हैं:

शुक्रवार 3 सितंबर से रविवार 5 सितंबर,

शनिवार 11 सितंबर,

शनिवार 18 सितंबर,

शनिवार 25 सितंबर,

शनिवार 2 अक्टूबर, और

शुक्रवार 8 अक्टूबर से रविवार 10 अक्टूबर।